सोमवार, 12 फ़रवरी 2018

महाशिवरात्रि

डॉ. राजकुमार उपाध्याय मणि

इस बार महाशिवरात्रि को लेकर भ्रम की स्थिति बनी हुई है इसकी वजह यह है कि महाशिवरात्रि फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी तिथि को होती है..
इस साल 13 जनवरी को पूरे दिन त्रयोदशी है और मध्यरात्रि में 11 बजकर 35 मिनट से चतुर्दशी शुरू होगी
जबकि 14 फरवरी को पूरे दिन और रात 12 बजकर 47 मिनट तक चतुर्दशी होगा ऐसे में लोगों के बीच असमंजस है कि महाशिवरात्रि का व्रत 13 फरवरी को रखा जाये या 14 फरवरी को ?

इस असमंजस को दूर करने के लिए धर्मसिंधु नामक ग्रंथ का सहारा लिया जिसमें ऐसे हालात के लिए कहा गया है :
*परेद्युर्निशीथैकदेश-व्याप्तौ पूर्वेद्युः सम्पूर्णतद्व्याप्तौ पूर्वैव..'*
इन पंक्तियों का अर्थ समझें तो कहा गया है कि :- अगर चतुर्दशी दूसरे दिन निशीथ काल में कुछ समय के लिए हो और पहले दिन संपूर्ण भाग में हो तो पहले दिन ही महाशिवरात्रि का व्रत करना चाहिये

यानी इस बार 13 फरवरी को महाशिवरात्रि का व्रत रखें.!!

*ऊँ नमः शिवाय*

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें